महत्वपूर्ण सूचना

श्री अन्ना हजारे ने 28 जनवरी, 2014 को महाराष्ट्र के लातूर के कोठा स्थान पर एक सम्मेलन बुलाया था. इस कार्यक्रम के आयोजन की तिथि में संशोधन किया गया है. अब यह सम्मेलन 30-31, जनवरी 2014 को आयोजित किया जाएगा. आशा है कि इस सम्मेलन में अन्ना जी अपने अगले कार्यक्रम की घोषणा करेंगे.

          आप में से जो लोग श्री अन्ना जी द्वारा बुलाए गए सम्मेलन में जाना चाहते हैं वे निम्नलिखित टेलीफोन नंबर पर बात करके अपने जाने की सूचना दे सकते हैं और स्थान तक पहुंचने की जानकारी ले सकते हैं.
फोन नंबरः +91 2488 240401

Press Release:

अन्ना कॉल सेंटर का शुभारंभ


आश्वासन बहुत हुए अब करेंगे या मरेंगेः अन्ना हज़ारे

 

रालेगण सिद्दीः 09 दिसंबर,2013. समाजसेवी श्री अन्ना हज़ारे ने अपने ग्राम रालेगण सिद्धी में 10 दिसंबर से शुरू होने वाले अनिश्चित कालीन अनशन के संबंध में प्रेस को संबोधित करते हुए अन्ना कॉल सेंटर का शुभारंभ किया. अन्ना जी कल से अपने गांव रालेगण सिद्धी के यादव बाबा मंदिर में जनलोकपाल बिल को पास करने की मांग को लेकर अनशन पर बैठ रहे हैं. फोन नंबर 09225223355 पर फोन करके आप अनशन के संबंध में विभिन्न विकल्पों के जरिए जानकारी प्राप्त कर सकते हैं. आप इस सुविधा के माध्यम से अनशन के दौरान अन्ना जी के भाषणों का सीधा प्रसारण भी सुन सकते हैं. यह सेवा बिग-वी टेलीकॉम की तरफ से मुफ्त में दी जा रही है.
अन्ना हजारे ने प्रेस को संबोधित करते हुए कहा कि अनशन का मुख्य उद्देश्य जनलोकपाल बिल को पास कराना है. संसद का शीतकालीन सत्र चल रहा है और यह वर्तमान लोकसभा के कामकाज के लिए आखिरी सत्र है. रामलीला मैदान के अनशन के दौरान प्रधानमंत्री ने लिखित वादा किया था और अपने वादे से मुकर गए. अन्ना ने कहा कि प्रधानमंत्री कार्यालय केवल पत्र लिखकर आश्वासन देता है. कोई ठोस कार्रवाई नहीं करता है. आश्वासन बहुत हुए अब करेंगे या मरेंगे.
हमारे देश को भ्रष्टाचार का महारोग लगा हुआ है. देश के हालात बहुत खराब हैं. सरकार की आर्थिक नीतियों और भ्रष्टाचार की वजह से मंहगाई चरम पर है इस वजह से लोगों का जीना मुश्किल हो रहा है. लोगों में सरकार के प्रति गुस्सा है, जो कि कल घोषित हुए चार राज्यों के विधानसभा परिणामों से जाहिर हो गया है. हार के कई कारण होंगे लेकिन लोकपाल न लाना कांग्रेस की हार का एक मुख्य कारण है. इसके बाद भी सरकार की आंख नहीं खुल रही है. सरकार को अब लोगों की याद करनी चाहिए अगर शीतकालीन सत्र में भी बिल पास नहीं होता है तो नहीं तो आने वाले लोकसभा चुनाव में जनता उसे सबक सिखाएगी. उसे हाल में संपन्न विधानसभा चुनावों से भी ज्यादा गंभीर परिणाम भुगतने पड़ेंगे.
देश में हम संघर्ष करके सूचना का अधिकार कानून लेकर आए. जिसका फायदा लोगों को मिल रहा है. यह सरकार भी जानती है. लेकिन लोकपाल को लाने की सरकार की मंशा नहीं है. पिछली बार सरकार ने मुझे लिखित आश्वसान दिया इस वजह से मैंने अपना अनशन खत्म कर दिया था. मुझे नहीं मालूम था कि सरकार धोखाधड़ी करेगी. सरकार ने अपने लिखित आश्वासन का दो साल गुजरने के बाद भी पालन नहीं किया. प्रधानमंत्री डॉ मनमोहन सिंह और कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी दोनों ने लोकपाल के पास करने के आश्वासन वाले कई पत्र भी लिखे लेकिन अब तक ऐसा नहीं हुआ है. लोकपाल के नहीं आने के लिए जितना जिम्मेदार सत्ता पक्ष है उतना ही विपक्ष भी है. दोनों ही भ्रष्टाचार मुक्त भारत का निर्माण नहीं होने देना चाहते हैं.
लोकपाल बिल लोकसभा में एक ही दिन में पास हो गया था. 23-11-2012 से लोकपाल बिल राज्यसभा में स्टैंडिंग कमेटी, सेलेक्ट कमेटी से पास होकर रखा हुआ है, केवल इस पर चर्चा होनी बाकी है लेकिन सरकार की उसे पास करने की मंशा नहीं है. दो साल गुजर गए हैं, अब सरकार के साथ बिल पर कोई चर्चा नहीं करेंगे. सरकार बार-बार जनता के साथ धोखा कर रही है. मेरे पास अनशन करने के अलावा और कोई रास्ता नहीं बचा है. स्वास्थय ठीक नहीं होने की वजह से ही मैंने अपने गांव में ही अनशन करने का निर्णय लिया है. जब तक लोकपाल बिल नहीं आएगा तब तक मेरा अनशन चलेगा.
सरकार अपने फायदे के लिए संसद सत्र को लंबा कर लेती है. सरकार को जनलोकपाल बिल इसी सत्र में पास करना होगा. जब वह दंगा बिल को इसी सत्र में पास करने के ले आतुर है, तो वह ऐसी ही इच्छा शक्ति लोकपाल बिल को पास करने के मामले में क्यों नहीं दिखा रही है.

जनतंत्र मोर्चा की बैठक

अन्ना के देशव्यापी समर्थकों की एक बैठक 26 नवंबर,2013 को 12 बजे जनतंत्र मोर्चा के कार्यालय में आयोजित की जा रही है. इस बैठक में आज की राजनीतिक स्थिति पर विचार किया जाएगा. अन्ना ने चुनाव आयोग को एक पत्र लिखा है, इस पत्र पर भी इस बैठक में चर्चा की जाएगी.

पत्र के लिए यहाँ क्लिक करें

http://jantantramorcha.org/wp-content/uploads/2013/11/election-commissner.pdf

 

अन्ना हजारे द्वारा चुनाव आयोग को लिखा पत्र…

letter12
PDF फॉर्मेट के लिए यहाँ क्लिक करें

अन्ना हजारे द्वारा राजनीतिक दलों को लिखा पत्र …

letter-politics

अन्ना पर दर्ज मुकदमा कोर्ट ने किया ख़ारिज

anna_case

अब राईट टू रिजेक्ट के लिए अन्ना करेंगे संघर्ष

2


 


1

General VK Singh Statement – 27 September 2013

General VK Singh Statement – 27 September 2013

On 20th September ‘The Indian Express’ published a front page banner headlines story titled, “Unit set up by VK Singh used secret funds to try and topple J&K government, block Bikram Singh: Army probe” claiming to be a leak of a ‘Top Secret’ Army ‘Board of Officers inquiry’ report on the working of Technical Services Division (TSD), a secret intelligence unit set up during my tenure as Chief of the Army Staff.

At the outset I would like to state that all the allegations are false and motivated.

First and foremost, TSD was not set up by me as my secret army, but was set up by the Army at the behest of the National Security Advisor after the dastardly attack on Mumbai by Pakistani terrorists who were subsequently labeled by the media as ‘non-state actors’. TSD was created as a capability mentioned in the operational directive of the Raksha Mantri and set up following the due process of procedures existing in the Army as part of intelligence units under the DGMI. Hence, though its existence by the very nature of its work was secret, its existence as a secret unit is not true. That this unit was disbanded shortly after I retired was a decision taken by the powers that be for reasons best known to them.

As far as the general public is concerned, by its very nature, TSD operations were ‘top secret’.  In that event, even the existence of TSD should never have been publicised. Further, if there is exposure of the actual working of the top secret unit, leaking information about it was seditious, regardless of whether information is true or false. Even knowledge of the existence of TSD can help the nation’s enemies. Being treasonous, the consequences for the ‘leakers’ and their collaborators could be very serious. (more…)

लोकपाल के लिए अनशन करेंगे अन्ना हजारे

120120अहमदनगर (महाराष्ट्र): भ्रष्टाचार विरोधी आंदोलन के प्रणोता अन्ना हजारे ने आज कहा कि वे संसद में जन लोकपाल विधेयक को पारित कराने के लिए शीतकालीन सत्र के पहले दिन नई दिल्ली में ‘सत्याग्रह’ की शुरुआत करेंगे.हजारे ने यहां से 40 किलोमीटर दूर स्थित अपने गांव रालेगण सिद्धी में कहा कि प्रधानमंत्री ने पिछले मानसून सत्र में जन लोकपाल विधेयक पारित करने का आश्वासन दिया था. लेकिन केंद्र सरकार ने आश्वासन के अनुरुप विधेयक को राज्यसभा में पेश ही नहीं किया. (more…)

Hazare to launch fast for Lokpal Bill during winter session

3030Anti-corruption crusader Anna Hazare today said he will start a ‘satyagraha’ in New Delhi on the first day of winter session, for the passage of Jan Lokpal Bill in Parliament.

The Prime Minister had assured to pass the Jan Lokpal Bill in the last monsoon session. But the central government did not present the Bill in Rajya Sabha as assured, Hazare said at his Ralegan Siddhi village about 40 kms from here. (more…)

Hazare to launch fast for Lokpal Bill during winter session

2020Anti-corruption crusader Anna Hazare today said he will start a ‘satyagraha’ in New Delhi on the first day of winter session, for the passage of Jan Lokpal Bill in Parliament. The Prime Minister had assured to pass the Jan Lokpal Bill in the last monsoon session. But the central government did not present the Bill in Rajya Sabha as assured, Hazare said at his Ralegan Siddhi village about 40 kms from here. (more…)

Page 2 of 1012345...10...Last »

प्रशिक्षण शिविर


जनतंत्र मोर्चे का पहला कार्यकर्ता प्रशिक्षण शिविर 9 जून से 12 जून तक ऋषिकेश के परमार्थ निकेतन में संपन्न हुआ. इस शिविर में उन्हें प्राथमिकता दी गई जिन्होंने देश के काम के लिए अपना एक वर्ष का समय अन्ना जी को दिया है. पहले शिविर के बाद दूसरा शिविर बीस दिनों के बाद ही होगा जिसकी विस्तृत जानकारी वेबसाइट पर उपलब्ध करा दी जाएगी. ऐसे सभी लोग जो प्रशिक्षण शिविर मेँ आना चाहते हैं, jantantramorcha.org पर संपर्क करें और एक लेख व्यवस्था परिवर्तन पर लिखकर ईमेल के जरिए jantantramorcha@gmail.com पर भेजें. आप अपना लेख डाक के माध्यम से भी भेज सकते हैं (Click).. आप अपना विधिवत वायोडाटा भी भेजें. पुनः अनुरोध है कि अगर अपना एक वर्ष आप देश के लिए देने को तैयार है, तभी आगे आएं.

×